यदि आपको किसी से अत्यधिक प्रेम हो गया हो और आप उसे दिलोजान से सच्चा प्यार करते है परंतु आपका प्रेमी या प्रेमिका लाख प्रयत्न करने के बाद भी आप से प्यार नहीं करता है | वशीकरण की अंगूठी वह छिपा हुआ हथियार है जो की आपके प्यार को बिना बताए , बिना शारीरिक या मानसिक नुकसान  पहुचाए आपके वश मे कर देता है | वशीकरण की अंगूठी वह सोने की चाभी है जो की आपकी मनपसंद स्त्री या पुरुष के दिल मे आपके लिए प्रेम और प्यार  भर देता है | आपके लिए यदि आपके पति आपकी भावनावों को नहीं समझते है | पति का किसी पराई महिला के साथ अवैध संबंध है | पति शराब इत्यादि नशे के आदि है | या फिर आपकी पत्नी अपने माँ बाप के कहने मे आकार मायके चली गई है | पत्नी आपके परिवार वालो को परेशान करती है | ऑफिस मे बॉस या आपके सहकर्मी आपको परेशान करते है | आपको तरक्की नहीं मिल रही है | मनचाही जगह पर आपका तबादला नहीं हो पा रहा है | कर्ज़ देने वाले आपको परेशान कर रहे है | व्यापार मे लगातार घाटा हो रहा है | विदेश जाने का सपना पूरा नहीं हो रहा है | तो आपको परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है | इस प्रकार की परेशानियों को दूर करने के लिए वशीकरण के प्रयोगो मे वशीकरण अंगूठी का नाम पहले लिया जाता है | वशीकरण अंगूठी को शुभ मूहर्त मे बनाकर शुभ मुहर्त मे ही मंत्रो और अनुष्ठान से सिद्ध किया जाता है वशीकरण अंगूठी को यदि श्रद्धा पूर्वक बनाकर धारण किया जाय तो रिश्तो को मजबूत करने मे मदद मिलती है | मनचाही स्त्री या पुरुष का वशीकरण  होता है | इस चमत्कारिक अंगूठी की  सहाता से ना सिर्फ आपका प्यार आपकी तरफ आकर्षित होगा बल्कि वह जीवन भर के लिए आपके प्यार मे दीवाना हो जाएगा |

वशीकरण अंगूठी को तैयार करने तथा सिद्ध करने की विधि

वशीकरण की अंगूठी को शुभ मुहर्त जैसे दीपावली , नवरात्रि , दशहरा , बसंत पंचमी , चन्द्र ग्रहण , सूर्य ग्रहण , मे रोजाना चालीस बार इक्कीस  दिनो तक ग्यारह विद्वान ब्राह्मणो द्वारा सिद्ध किया जाता है | वशीकरण अंगूठी बनाने के लिए किसी भी नाप की  आवश्यकता नहीं होती है | इसे आप किसी भी उंगली मे या किसी भी हाथ मे पहन सकते है |