शादी शुदा महिला का वशीकरण  करना या उससे सम्बन्ध जोड़ना सामाजिक रूप से ठीक नहीं है | किन्तु कभी कभी किसी विशेश कार्य के चलते सम्बन्ध जोड़ना भी आवश्यक हो जाता है | कभी कभी शारीरिक सम्बन्ध ना होते हुए भी स्त्री का सुख संतोष प्रादान करता है | क्योकि पुरुष उस स्त्री के बिना कष्ट का अनुभव महसूस करता है | ऐसे पुरुषो को पूर्णिमा के दिन रात्री में निचे दिए गए इस मंत्र को भोजपत्र पर , गोरोचन , कुमकुम , श्रीखंड , और कस्तूरी की स्याही से अनार की कलम से लिख कर धुप दीप , पुष्प से पूजन करने के बाद मंत्र को १०८ बार जाप कर लेने चाहिए | इसके बाद उसी रात्री को ही अपनी दाहिनी भुजा पर बाँध लेने से मनचाही शादी शुदा महिला का वशीकरण हो जाता है | मंत्र को लिखते समय उस स्त्री का और उसके माँ बाप का नाम मन ही मन में लेते रहे |

मंत्र :

कामोनागाह पंच्स्हरा कन्दर्पो मीन केतानाह |

श्री विष्णू तनयो देवः प्रसन्नो भवतु प्रभो |

वशीकरण का सफल होना या ना होना आपकी चाहत पर निर्भर करता है | मनुष्य महिला या पुरुषो को ही नहीं बल्कि देवताओं , भूत प्रेतों तक को अपने वश में कर लेता है |